गोरखपुर में दो सौ एकड़ में बनकर तैयार हुआ महायोगी गुरु गोरखनाथ विश्वविद्यालय Gorakhpur News

Spread the love

ताजा

राष्ट्रीय

स्पेशल

टी20 लीग

चुनाव 2021

जागरण प्ले

दुनिया

शिक्षा

Vishwash News

मनोरंजन

जॉब्स

टेक ज्ञान

लाइफस्टाइल

बिजनेस

पॉलिटिक्स

क्रिकेट

फोटो ग

गोरखपुर में दो सौ एकड़ में बनकर तैयार हुआ महायोगी गुरु गोरखनाथ विश्वविद्यालय Gorakhpur News

newimg/23042021/23_04_2021-guru_gorakhnath_univarcity_21583946.jpgमहायोगी गुरु गोरखनाथ विश्वविद्यालय का प्रतीकात्‍मक फाइल फोटो, सौ. विवि प्रशासन।

सदर तहसील के सोनबरसा व सिक्टौर गांव में बनकर तैयार हो चुके इस विश्वविद्यालय के लिए खरीदी गई भूमि को विनियमित करने पर पिछले माह कैबिनेट की बैठक में मुहर लग चुकी थी। इससे पहले शासन की एक उच्‍च स्तरीय समिति ने विश्वविद्यालय परिसर का मौका मुआयना किया था।Satish Chand ShuklaFri, 23 Apr 2021 12:29 PM (IST)

  • Facebook
  • Twitter
  • whatsapp
https://23e6493cd6bb4ac3ec420b2bf11f9d05.safeframe.googlesyndication.com/safeframe/1-0-38/html/container.html?n=0

गोरखपुर, जेएनएन। महायोगी गुरु गोरखनाथ विश्वविद्यालय के रूप मेें जिले का तीसरा विश्वविद्यालय गुरुवार को अस्तित्व में आ गया। राज्यपाल ने प्रदेश में जिन तीन निजी विश्वविद्यालयों के संचालन के अध्यादेश जारी किया, गोरखनाथ विश्वविद्यालय उनमें से एक है। अध्यादेश जारी होने के बाद अगले सत्र से विश्वविद्यालय का संचालित होना तय हो गया है। विश्वविद्यालय प्रबंधन ने जुलाई से कुछ पाठ्यक्रमों का संचालन शुरू करने की योजना बनानी शुरू कर दी है। बाकी के तय पाठ्यक्रम भी जल्द से जल्द शुरू कर दिए जाएंगे। विश्वविद्यालय प्रबंधन ने परिसर से 30 से अधिक रोजगार पाठ्यक्रमों के संचालन की योजना बनाई है।

दो सौ एकड़ में बना है विश्‍वविद्यालय

सदर तहसील के सोनबरसा व सिक्टौर गांव में बनकर तैयार हो चुके इस विश्वविद्यालय के लिए खरीदी गई भूमि को विनियमित करने पर पिछले माह कैबिनेट की बैठक में मुहर लग चुकी थी। इससे पहले शासन की एक उच्‍च स्तरीय समिति ने विश्वविद्यालय परिसर का मौका मुआयना किया था।  दीनदयाल उपाध्याय गोरखपुर विश्वविद्यालय के कुलपति की अध्यक्षता में गठित समिति को यह विश्वविद्यालय शासन के मानक पर पूरी तरह खरा मिला था। करीब 200 एकड़ में अत्याधुनिक संसाधनों के साथ स्थापित  होने वाले इस विश्वविद्यालय में विद्यार्थियों को बाजारोन्मुखी और रोजगारपरक पाठ्यक्रमों का विकल्प तो मिलेगा ही, साथ ही शोधार्थियों को शोध की सुविधा भी प्रदान की जाएगी। गुरु श्रीगोरक्षनाथ नर्सिंग कालेज नाम से एक कालेज परिसर में पहले से संचालित है। जिले में अध्ययन और रोजगार का एक और विकल्प मिल जाने से युवाओं में खुशी की लहर है।

विश्वविद्यालय में इन पाठ्यक्रमों का होगा संचालन

बीएससी नर्सिंग, पोस्ट बेसिक बीएससी नर्सिंग, बीएएमएस, बीएचएमएस, बीयूएमएस, बीडीएस, एमबीबीएस, बीफार्मा (आयुर्वेद व एलोपैथ), डीफार्मा (आयुर्वेद व एलोपैथ), बीएससी एलटी, बीए/बीएससी यौगिक साइंस, बीएससी एजी, बीए आनर्स, बीएससी आनर्स (मैथ व बायो), बीएससी कंप्यूटर, बीकाम, बीएड, बीएससी-बीएड, बीए-बीएड, बीपीएड, पैरा मेडिकल का सर्टिफिकेट, बीसीए, बीबीए, डिप्लोमा और डिग्री कोर्स, शास्त्री आनर्स आदि संचालन किया जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *