बाबा साहेब डॉक्टर भीमराव अंबेडकर जी का आज 130 वां जन्मदिन धूमधाम से मनाया गया

Spread the love

महराजगंज 14 अप्रैल: सिसवा मुंशी स्थित सनराइज पब्लिक स्कूल एंड रफीउल्लाह इस्लामिया इंटर कॉलेज सिसवा मुंशी परतावल महाराजगंज के विद्यालय में भारत के प्रथम कानून मंत्री, नारी मुक्ति दाता, श्रम कानून मंत्री, विधिवेत्ता, भारतीय संविधान निर्माता,सिम्बल ऑफ नालेज, विश्वरत्न ,भारत रत्न, आधुनिक भारत के शिल्पकार, बोधिसत्व परम पूज्य बाबा साहेब डॉक्टर भीमराव अंबेडकर जी का आज 130 वां जन्मदिन धूमधाम से मनाया गया। विज्ञान के प्रवक्ता संजीव कुमार अंग्रेजी के प्रवक्ता प्रदुमन कुमार , प्रबंधक तुफैल अहमद ने कहा कि बाबा साहेब आंबेडकर का जन्म 14 अप्रैल 1891 को मध्य प्रदेश के महू में हुआ था। उनका मूल नाम भीमराव था।उन्होंने देश से जाति प्रथा और समाज में कुव्यवस्था को खत्म करने में अहम भूमिका निभाई थी। उनका मानना था कि सभी जाति के लोगों को एक जैसा अधिकार मिलना चाहिए ताकि आगे चलकर किसी भी प्रकार भेदभाव ना हो। उन्होंने अपने जीवन काल में कई महत्वपूर्ण आंदोलनों में भी हिस्सा लिया। एक दलित परिवार से आने वाले बी आर अंबेडकर ने अपने जीवन में बहुत यातनाएं झेलीं लेकिन कभी किसी कमजोर का साथ नहीं छोड़ा।यही वजह है कि वे आज भी लोगों के दिलों में जिंदा हैं. उन्हें आज भी उतने ही आदर और सम्मान के साथ याद किया जाता है। उन्होंने कहा कि आज हमारी सरकार ने उनके आदर्शों पर चलते हुए समाज के हर वर्ग की चिंता की। गांव गरीब दलितों व पिछडो के कल्याण व उत्थान के लिए अनेक योजनाओ को लागू किया। इस अवसर पर प्रधानाचार्य श्रवण कुमार गौतम ने कहा कि डॉ भीम राव अम्बेडकर ने देश से जाति प्रथा और समाज में कुव्यवस्था को खत्म करने में अहम भूमिका निभाई थी।उनका मानना था कि सभी जाति के लोगों को एक जैसा अधिकार मिलना चाहिए ताकि आगे चलकर किसी भी प्रकार भेदभाव ना हो। उप प्रधानाचार्य सुनील चंद्रा ने कहा कि उन्होंने अपने जीवन काल में कई महत्वपूर्ण आंदोलनों में भी हिस्सा लिया। एक दलित परिवार से आने वाले बीआर अंबेडकर ने अपने जीवन में बहुत यातनाएं झेलीं लेकिन कभी किसी कमजोर का साथ नहीं छोड़ा। यही वजह है कि वे आज भी लोगों के दिलों में जिंदा हैं।उन्हें आज भी उतने ही आदर और सम्मान के साथ याद किया जाता है।
इस अवसर पर विद्यालय के अशोक कुमार दूबे,प्रदुमन चौधरी, संजीव मित्तल, खालिद हसन, मजहरूउद्दीन, कैलाश सिंह, रूपकला पटेल, सुचिता पटेल, जाहिदा खातून, मंशा पांडेय आदि अध्यापक अध्यापिका उपस्थित रहे ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *