काबुल से भागने के बाद परिवार के साथ यूएई में हैं अफगानिस्तान के राष्ट्रपति अशरफ गनी

Spread the love

नई दिल्ली : अफगानिस्तान पर तालिबान के कब्जे के बाद अफगान राष्ट्रपति अशरफ गनी ने देश छोड़ दिया था. उन्हें संयुक्त अरब अमीरात शरण दी है. संयुक्त अरब अमीरात ने बुधवार को कहा कि वह तालिबान के अधिग्रहण के बीच अफगानिस्तान से भागे राष्ट्रपति अशरफ गनी की “मानवीय आधार पर” मेजबानी कर रहा है. यूएई द्वारा एक संक्षिप्त बयान में कहा गया, “यूएई विदेश मामलों और अंतर्राष्ट्रीय सहयोग मंत्रालय इस बात की पुष्टि कर सकता है कि यूएई ने राष्ट्रपति अशरफ गनी और उनके परिवार का मानवीय आधार पर देश में स्वागत किया है.”

जानें कौन है मुल्ला बरादर, बन सकता है अफगानिस्तान का अगला राष्ट्रपति : 5 Points

तालिबान के कब्जे के बाद काबुल के बंद होने से पहले गनी रविवार को अफगानिस्तान से भाग निकल थे. तालिबानी विद्रोही अफगान की राजधानी में निर्विरोध बढ़ते चले गए थे. एक फेसबुक पोस्ट में अशरफ गनी ने कहा था कि “तालिबान जीत गया” और उन्हें “रक्तपात की बाढ़” को रोकने के लिए अफगानिस्तान को छोड़ना पड़ा.

बुधवार तक अशरफ गनी के ठिकाने की कोई खबर नहीं थी. अटकलें लगाई जा रही थी कि वह ताजिक्टन, उज्बेजिस्तान या ओमान भाग गए हैं.

यह पहली बार नहीं होगा जब तेल समृद्ध खाड़ी देश ने पूर्व नेताओं और उनके रिश्तेदारों के लिए अपनी बाहें खोली हैं, जो अब उनके देश में व्यक्तित्वहीन हैं. 2017 में, दुबई के अमीरात ने थाईलैंड के पूर्व प्रधानमंत्री यिंगलक शिनावात्रा की मेजबानी की, जिन्हें अनुपस्थिति में पांच साल जेल की सजा सुनाई गई थी.

यूएई सऊदी अरब और पाकिस्तान सहित तीन देशों में से एक है, जिसने पिछले तालिबान शासन को मान्यता दी थी, जिसने 1996 से 2001 तक शासन किया था.

काबुल के गुरुद्वारे में 320 लोग फंसे हैं, वीडियो संदेश जारी कर के लगाई गुहार

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *